तरबूज की खेती भारत के सभी राज्यों में कम-ज़्यादा मात्रा में की जाती है। तरबूज की खेती राजस्थान और मध्य प्रदेश में अधिक प्रचलित है। तरबूज की खेती उड़ीसा, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान और महाराष्ट्र में की जाती है। गुजरात में तरबूज की खेती विशेष रूप से नदी घाटियों में की जाती है, लेकिन दक्षिणी गुजरात में मध्यम काली मिट्टी में खेती करना शुरू कर दिया है। इस फसल की वृद्धि और फल की उच्च गुणवत्ता के लिए औसत उच्च तापमान आवश्यक है। 21 डिग्री सेल्सियस पर, बीजों के अंकुरण में सुधार नहीं होता है और साथ ही पौधों के विकास को धीमा कर देता है।

फल और सब्जी की खेती की मांग आजकल बढ़ रही है, किसान अल्पकालिक और कम लागत वाली खेती की ओर रुख कर रहे हैं। तरबूज की खेती अल्पकालिक होती है और तरबूज के बीजों की किस्में भी बाजार में उपलब्ध होती हैं। बाजार में विभिन्न प्रकार के स्वदेशी तरबूज के बीज हैं, जिनमें बीज से लेकर हाइब्रीड तरबूज तक शामिल हैं।

अनुकूल जमीन

तरबूज को विभिन्न प्रकार की मिट्टी जैसे कि रेत, बेसर या मध्यम काली मिट्टी में लगाया जा सकता है। हालांकि नदी के तटवाली जमीन में तरबूज की खेती अधिक प्रचलित है, लेकिन तरबूज की फसल को समतल भूमि में सफलतापूर्वक पा जा सकता है। समतल भूमि में रोपण करते समय, पहले जमीन को 20 से 25 सेमी 2 से 3 बार गहरी बनाए और फिर अंत में जमीन को समतल करें।

बुवाई की दूरी और बीज दर

तरबूज की गुणवत्ता और मिट्टी की उर्वरता को ध्यान में रखते हुए, दो चासों के बीच 2 से 2.5 मीटर की दूरी रखनी चाहिए। दो पौधों के बीच लगभग एक मीटर की दूरी रखनी चाहिए। कम बुवाई वाली फसलों में, फल आकार में छोटे रहते हैं। बीज के अंतर और बीज के आकार को देखते हुए प्रति हेक्टेयर रोपण के लिए 2 से 2.5 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

बुवाई

तरबूज एक गर्म मौसम की फसल है और इसलिए मुख्य रोपण मौसम गर्मियों का है। गर्मी शुरू होने पर 15 फरवरी तक रोपण करना चाहिए। हालांकि, बुवाई सितंबर-अक्टूबर के दौरान भी की जा सकती है, ताकि मानसून की शुरुआत के बाद जल्दी फसल मिल सके। जमीन में 5 मीटर की दूरी पर निकेल तैयार करें।

तरबूज की विभिन्न किस्में

शुगरबेबी : तरबूज की यह अमेरिकी किस्म अधिक प्रचलित है। औसतन, फल का वजन 3 से 4 किलोग्राम होता है। छाल गहरे हरे रंग की भूरी होती है और भ्रूण लाल रंग का होता है। औसत उपज 30 टन प्रति हेक्टेयर है।

असाही यामाटो: तरबूज की इस जापानी किस्म का फल का औसत वजन 6 से 7 किलोग्राम है, और छाल हरे रंग की है और भ्रूण लाल है। औसत उपज 30 टन प्रति हेक्टेयर है।

अरका ज्योति: तरबूज फल की यह संकर किस्म 6 से 7 किलोग्राम की और गोलाकार होती है। छाल हरे रंग की होती है और शीर्ष पर गहरे लाल रंग की पट्टी होती है। औसतन, हेक्टेयर में 40 टन प्रति हेक्टेयर उत्पादन होता है। यह किस्म भारतीय बागवानी अनुसंधान संस्थान, बैंगलोर से जारी की गई है। यदि नई किस्में उपलब्ध हैं, तो निजी कंपनियों को भी रोपण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

उत्पादन

तरबूज 60 से 65 दिनों में तैयार हो जाता है और 1 वीगा से अनुमानित 500 मण उत्पादन होता है और बाजार मूल्य भी अच्छा मिलता है। तरबूज के बीज को 1 वीगा में रोपण के लिए 300 ग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

माहिती पसंद आए तो इस पोस्ट को अन्य किसान मित्रो के साथ शेर करे।

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here