Adarak ki kheti गुजरात में अदरक का फसल विस्तार 4870 हेक्टर है। 1.08 लाख टन का उत्पादन होता है। हेक्टेयर की पैदावार 22.23 टन प्रति हेक्टेयर है। यह नवसारी और आनंद कृषि विश्व विद्यालय द्वारा घोषित विवरण कहता है। गुजरात के किसानों नए चीकू के फार्म में अदरक की खेती करके प्रति हेक्टेयर 25,000 किलोग्राम अदरक की फसल लेते है। अहमदाबाद, खेड़ा, नवसारी, सूरत, वलसाड जिले में होता है। दक्षिण गुजरात में, अदरक की खेती नए 5 साल के आम, चीकू, केले या अन्य फलों के बागों में पौधों के बीच की जाती है। इससे प्रति हेक्टेयर 2 से 3 लाख का अतिरिक्त कमाई प्राप्त होता है।

इसे भी पढ़े > ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करे 

अब, चीकू के बगीचे में, हाइड्रोपोनिक्स और एरोपोनिल खेती पद्धति से उत्पादन बढ़ाने की कोशिश की जाती है। गुजरात के किसान और वैज्ञानिको उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के लिए महेनत कर रहे हैं।

अदरक की किस्में सुप्रभा, सुरूचि, सुरवी, मारन, नादिया, कुंडली, बोरयावी और शामलाजी हैं। हरी अदरक के लिए शिंगपुरी, सूखी अदरक के लिए तुरा, नादिया किस्म गुजरात के कृषि वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई है जो भारत में सबसे अच्छी उत्पादक किस्मों में से एक है। गाँठ का रोपण के लिए उपयोग किया जाता है।

देश के मुकाबले गुजरात में अदरक की फसल प्रति हेक्टेयर अधिक होती है। कृषि वैज्ञानिकों के लिए उन्नत किस्मों का उत्पादन संभव है। पूर्वोत्तर राज्यों में, जहां ठंड बढ़ती है, देश के 26 प्रतिशत ठंडे क्षेत्र में ही अदरक की खेती होती थी। अब ऐसा नहीं है। गुजरात, केरल, कर्नाटक, उड़ीसा और तमिलनाडु तथा अन्य राज्यों में भी खेती हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here