soybean kheti सोयाबीन की खेती के लिए अनुकूल जमीन क्या है,बुआई कैसे करे, किस्में, खाद कैसे करे आदि के बारे में पूरी माहिती जानिए।

बुआई के लिए अनुकूल जमीन

सोयाबीन के पौधों की जड़ें गहरी जाती है इसलिए क्षैतिज रूप से खेड़ करके जमीन को भरा बनाये। इस तरह की तैयार मिट्टी में बुवाई अच्छी तरह से की जा सकती है और बीज अच्छे और समान होते हैं। मिट्टी की तैयारी के समय, आवश्यक गोबर का उर्वरक 10 टन प्रति हेक्टेयर तक देना चाहिए।

बुआई कब और कैसे करे

जून – जुलाई के महीने में पर्याप्त वर्षा होने पर रोपण करना चाहिए। जुलाई मास के दूसरे वीक में बुआई करने से मानसून के पिछले बारिश से फसल के नुकसान को रोका जा सकता है।

हवामान के अनुसार कौन सी किस्में की बुआई करे

कम बारीशवाले क्षेत्र में गुजरात सोयाबीन-१ और ज्यादा बारीशवाले क्षेत्र में गुजरात सोयाबीन-२ वाली किस्मे को पसंद करना चाहिए। इसके अलावा गुजरात सोयाबीन-३ और क्लार्क वाली किस्मो का मिश्र आंतर फसल के लिए पसंद करे। हमारे यहाँ ऍन.आर.सी-३६ और जे.एस.-३३५ किस्मो का उत्पादन भी अच्छा मिलता है।

इसे भी पढ़े > नींबू की वैज्ञानिक खेती कैसे करे

किस्मे और फसल की गुणवत्ता के प्रतिशत के आधार पर प्रति हेक्टेयर 60 से 75 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

सोयाबीन को कितनी दूरी पर लगाया जाना चाहिए?

उपजाऊ मिट्टी में दो जुताई के बीच 45 सेमी तथा हल्की मिट्टी में 30 से.मी. एक पंक्ति में दो पौधों के बीच दूरी और 10 से 15 सेमी रखें के बड़े पैमाने पर बीज बोना चाहिए । बीज की बुआई 4-5 सेमी तक गहराई पर करना चाहिए। बहुत गहरी या बहुत उथली बुआई करने से फसल सही नहीं हो पाती है।

उर्वरक कितना और कब देना चाहिए?

फसल की बुवाई के समय, एक हरोल में 30 किग्रा नाइट्रोजन और 60 किग्रा फास्फोरस प्रति हेक्टेयर दें। सभी उर्वरकों को एक साथ मूल उर्वरक के रूप में देने के बाद बीज बोना चाहिए।

प्रत्येक हेक्टर उत्पादन कितना होता है

यदि पर्याप्त फिटनेस और समय पर खेती का काम किया जाता है, तो 1500 से 2000 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है।

सोयाबीन की कटाई कब करनी चाहिए और उसके बीज को कब अलग करे

गुणवत्ता और मौसम के आधार पर, सोयाबीन 80 से 115 दिनों में तैयार हो जाता है। अधिकांश पत्तियाँ पीली हो जाती हैं और अधिकतर पकी हुई फलियाँ पीली हो जाती हैं और फसल पककर कटने के लिए तैयार हो जाती है।

अनाज को बैलों को घुमाकर, ट्रैक्टरों को घुमाकर या पावर थ्रेशर से भी अलग किया जा सकता है।बाद में बीज को 2-3 दिनों के लिए कमरे के तापमान पर सुखकर संग्रहीत कर देना चाहिए।

पोस्ट पसंद आये तो दूसरे किसान मित्रो के साथ भी जरूर शेयर करे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here