भारत सरकार ने पर्यावरण को घर से निकलने वाले धुएँ से बचाने के लिए मुफ्त गैस कनेक्शन वितरण योजना शुरू की है। नि: शुल्क गैस सिलेंडर भी प्रदान किए गए थे, लेकिन एक सिलेंडर के उपयोग के बाद, लोगों ने पुन: पुराण चुल्हा का उपयोग करना शुरू कर दिया है। इसलिए सरकार ने गैस सिलेंडर का उपयोग बढ़ाने के लिए गैस सब्सिडी सेवा शुरू की है।

पिछले कुछ वर्षों से, सरकार ने सीधे बैंक को गैस पर सब्सिडी प्रदान करना शुरू कर दिया है। वर्तमान में, सरकार ने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ाने के संदर्भ में नई योजनाएं जारी की हैं। हम सभी का कर्तव्य है कि हम जीवित पर्यावरण की रक्षा करें।

ज्यादातर लोग इस बात को लेकर उलझन में हैं कि क्या सिलेंडर की सब्सिडी खाते में आती है। क्योंकि, उन्हें नहीं पता कि सब्सिडी आ रही है या नहीं। हालांकि, आपको बहुत अधिक चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि, हम आपको वह तरीका बताएंगे जिससे आप आसानी से पता लगा सकते हैं कि आपके खाते में गैस सिलेंडर की सब्सिडी आ रही है या नहीं।

यह एक ऑनलाइन सेवा है जिसे गैस सिलेंडर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। याद रखें कि यही कारण है कि आपके पास एक एलपीजी लॉगिन आईडी होना चाहिए। इसके लिए आपको अपने मोबाइल ब्राउजर में www.mylpg.in वेबसाइट पर लॉग इन करना होगा। यहां उल्लिखित शीर्ष गैस कंपनियों के नामों में से अपनी सेवा प्रदाता कंपनी का नाम चुनें। फिर आपसे आपकी एलपीजी आईडी मांगी जाएगी। इसे पूरा करने के बाद, अपना पंजीकृत मोबाइल नंबर और चालू वित्तीय वर्ष चुनें। ऐसा करने से आप अपनी सभी सब्सिडी के विवरण को उजागर कर देंगे। इस विवरण में प्रत्येक माह आपके खाते में भेजी जाने वाली सब्सिडी की राशि का विवरण शामिल होगा। अगर आपके बैंक खाते में सब्सिडी की राशि नहीं आ रही है, तो आप फीडबैक वाले बटन पर क्लिक करके भी तुरंत अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

सब्सिडी नहीं मिलने का मुख्य कारण एलपीजी आईडी को खाता संख्या के साथ नहीं जोड़ना है। इसके लिए आपको अपने नजदीकी वितरक से संपर्क करना चाहिए और उन्हें अपनी समस्या से अवगत कराना चाहिए। इसके अलावा आप टोल फ्री नंबर 18002333555 पर कॉल करके भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे दूसरों के साथ शेयर करें। And Also Like us on our Facebook Page : ખેડૂત પૂત્ર – Khedut Putra

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here