किसानमित्रो आज हम आपको बताने जा रहे हे की तुअर की खेती पद्धति क्या है इसकी सम्पूर्ण जानकारी

जमीन की तैयारी

तुअर की फसल में उसके मूल जमीन में ज्यादा तक दूर जाते है। इसके लिए तुअर की खेती करने के लिए जमीन को ज्यादा गहरे तक तैयार कीजिये। अगर पहली फसल के बाद तुअर की बुआई करनी है तो जमीन को हल से एक से दोबार खेद करके अच्छा कीजिये। तुअर की फसल में ज्यादा पानी की वजह से कम भेज के कारन फसल की उत्पादन पर बहुत ज्यादा असर पड़ता है। इसीलिए जमीन की तैयारी के दौरान पशु के मल का खातर डालके उसे अच्छा तैयार कीजिये।

बीज की किस्म का चयन कैसे करे

किसान मित्रो फसल के बीज को जमीन और सिंचाई की पुर्वरकता के अनुसार पसंद कीजिये। इसी तरह से जल्दी फसल उत्पादन या देर उत्पादन वाली बीज को पसंद करना है। जल्दी फसल देती किस्मो में गु. तुअर-101, गु. तुअर-103, बी.-डी.एन.-2, बी.-डी.एन.-711, और देरी से फसल देती किस्मो में वैशाली , आईसीपिेल-87119 , और सर्दी फसल के लिए गु. तुअर-102, और सब्जी के लिए गु. तुअर-1 को पसंद कीजिये।

बीज दर

आमतौर पर फसल के लिए प्रत्येक हेक्टर बीज का दर 12-15 होता है।

बुवाई का समय और दूरी

मानसून तुअर के लिए बारिश होने पर बुआई करे और सर्दियों की तुअर के लिए 1 अक्टूबर से 10 अक्टूबर तक करे।

जल्दी फसल की दुरी 60*20 से.मि. और देरी फसल की दुरी 90*20 से.मि.

खाद प्रबंधन

बुआई के लायक बारिश होते ही जमीन को अच्छा करके 25 kg नाइट्रोजन और 50 kg फोस्फरस प्रत्येक हेक्टर जमीन में अंदर डाल के खाद दीजिये। प्रत्येक हेक्टर 20 kg ज्यादा सल्फर देने से फसल का उत्पादन ज्यादा होता है।

सिंचाई प्रबंधन

मानसून फसल को बारिश ख़त्म होने पर आवश्यक पानी दे क्योकि उतपादन अच्छा हॉ। आमतौर पर मानसून ख़त्म होने पर 1 महीने में दोबार सिंचाई करे। सर्दी तुअर को आवश्यक तीन से चार बार सिंचाई करे।पहला सिंचाई बुआई के समय और बाकि सिंचाई हर महीने एकबार सिंचाई करे। फसल पर फूल के आने समय से भेज की अछत न हो इसका खास ध्यान रखे।

निंदाई व्यवस्था

दो से तीन बार आन्तरखेड और दो से तीन बार निंदाई करके जमीन को साफ़ रखे।

उत्पादन

तुअर की खेती में फसल आते ही उसको कटाई करके ट्रेक्टर से बीज को अलग करके साफ़ करे। फिर उसे थोड़ा सा भेज रहे तब तक सूर्य के तापमान में सूखा ले।

माहिती पसंद आए तो इस पोस्ट को अन्य किसान मित्रो के साथ शेर करे।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here